अब डरा रहा छिपकली में मिलने वाला फंगस

नई दिल्ली. कोरोना वायरस का खतरा अभी पूरी तरह से टला नहीं है कि अब फंगस का खतरा मंडरा रहा है. ब्लैक और व्हाइट के बाद अब येलो फंगस का खतरा भी मंडराने लगा है. येलो फंगस का पहला मामला गाजियाबाद में देखने को मिला है. इसके बाद डॉक्टर्स में चिंता बढ़ गई है.

कोरोना वायरस से हुए ठीक, अब ऐसे रखें सेहत का ख्याल

बता दें की येलो फंगस रेप्टाइल्स में पाया जाता है. ये फंगस छिपकली में कई बार देखने में आता है. अब इस फंगस का मामला आम लोगों में आ गया है इससे परेशानी काफी बढ़ गई है. हालांकि इसका अबतक एक ही मामला सामने आया है. डॉक्टर उम्मीद कर रहे हैं कि इसके अधिक मामले सामने न आए.

इम्यूनिटी और ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए जरूर खाएं ये चीजें

इस येलो फंगस के संबंध में हमने बात की सफदरजंग अस्पताल में ईएनटी सर्जन डॉक्टर कृष्ण राजभर से. उन्होंने बताया कि इस बीमारी को म्यूकर स्पेक्टिक्स कहा जाता है. आमतौर पर येलो फंगस रेप्टाइल जैसे छिपकली या गिरगिट में पाया जाता है. मगर अब इसका पहला मामला सामने आ गया है.

“कोरोना के चलते मरीज जिंकोविड, स्टेरॉयड का अधिक सेवन कर रहे हैं. ऐसे में शरीर में जिंक की मात्इरा अधिक होने लगी है. इस कारण ये मामले सामने आ रहे है” –
डॉ. कृष्ण राजभर, इएनटी सर्जन, सफदरजंग अस्पताल


अब ब्लैक फंगस का डर, डॉक्टर से जानें इसके लक्षण

दवाई भी है कारण

फंगस की बीमारी अधिकतर कोरोना के मरीजों में देखी जा रही है. इसका कारण है कि इन दिनों स्टीरॉयड या जिंकोविड अधिक दिए जा रहे हैं. ऐसे में शरीर में जिंक की मात्रा अधिक हो रही है. वहीं शरीर में जिंक की मात्रा अधिक होने पर कई अन्य परेशानियां हो सकती हैं.

ये है येलो फंगस के लक्षण

डॉ. राजभर ने बताया कि येलो फंगस से अगर कोई संक्रमित होता है तो उसमें कुछ खास लक्षण दिखते हैं. इसमें अस्थमा अटैक आना यानी सांस लेने संबंधित परेशानी मरीज को होती है. इसके अलावा नाक बंद होना, शरीर में दर्द होना, शरीर में कमजोरी महसूस होना, फीवर, नाक से पानी आना. ये सब येलो फंगस के लक्षण हैं.

खुद से न लें दवाई

येलो फंगस के एक भी लक्षण दिखने पर बिना समय गंवाए डॉक्टर से सलाह ले. डॉक्टर से सलाह लिए बिना कोई इलाज न करें. खुद से दवाई लेने से बचें. डॉक्टर ने बताया कि अगर समय पर इसका इलाज शुरु न हो तो मरीज का ऑपरेशन करके इस बीमारी से छुटकारा दिलाया जा सकता है.

इस जगह पर है अधिक खतरा

येलो फंगस उन लोगों को होने का खतरा अधिक है जो अधिक नमी वाली जगह रहते हैं. ये मौसम नमी के लिए अनुकूल है. ऐसे में इस समय अधिक बचकर रहना जरूरी है. चाहे ब्लैक फंगस हो या व्हाइट या येलो ये अधिकतर नमी वाली जगह पर ही पनपते हैं. ऐसे में नमी से खु21द को अधिक से अधिक बचाए रखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: