वर्ल्ड मिल्क डे 2020 : इतिहास, महत्व और इस वर्ष का विषय

  • कोरोना वायरस महामारी को ध्यान मे रखकर लोगों को ऑनलाइन कैम्पेन चलाने की सलाह
  • 2020 में वर्ल्ड मिल्क डे की 20 वीं वर्षगांठ है

नई दिल्ली. वर्ल्ड मिल्क डे हर वर्ष 1 जून को मनाया जाता है. दूध को वैश्विक भोजन के रूप में मान्यता देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) द्वारा स्थापित, विश्व दूध दिवस 2001 से प्रत्येक वर्ष 1 जून को मनाया जाता है. 2001 में पहला वर्ल्ड मिल्क डे अयोजित किया गया था. इसके बाद दुनिया भर के कई देशों ने भी इस समारोह में भाग लेना शुरू किया. हर वर्ष यह संख्या बढ़ते जा रही है.

वर्ल्ड मिल्क डे 2020 थीम

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) द्वारा स्थापित इस पहल ने 20 साल पूरे कर लिए हैं. इसलिए इस बार की थीम को “वर्ल्ड मिल्क डे की 20 वीं वर्षगांठ” का नाम दिया गया है. यह उत्सव 29 मई को एक डेयरी रैली के साथ शुरू हुआ. ग्लोबल डेयरी प्लेटफ़ॉर्म प्रतिभागियों से डेयरी के लाभों के बारे में बात की. लोगों को प्रोत्साहित किया.

इसके साथ-साथ दुनिया के कई हिस्सों में दूध और डेयरी उत्पादों तक पहुँचने में आने वाली समस्याओं को उजागर भी किया गया. यह दिन दूध और दूध उद्योग से जुड़ी गतिविधियों को प्रचारित करने का अवसर प्रदान करता है. इस दिन को कई देश दूध के स्वास्थ्य लाभों को लेकर जागरूकता फैलाते हैं. अलग अलग देश इसे राष्ट्रीय समारोहों में अतिरिक्त महत्व देते हैं. इससे पता चलता है कि दूध एक वैश्विक भोजन है.

#worldmilkday कैम्पेन की भी तैयारी

वैश्विक डेयरी मंच ने दुनिया भर के लोगों से वर्ल्ड मिल्क डे के लिए कैम्पेन चलाने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा, “हम फिर से आप सभी से #वर्ल्डमिल्कडे समारोह में भाग लेने के लिए अनुरोध करते है. आप एक अभियान की मेजबानी कर सकते हैं (जैसे कि टिकटोक चैलेंज, ट्विटर चैट, फोटो प्रतियोगिता, डेयरी फार्म के वीडियो, रेसिपी प्रतियोगिता, बूमरैंग वीडियो, स्नैपचैट फिल्टर, फेसबुक / इंस्टाग्राम लाइव, प्रभावशाली अभियान या गीत प्रतियोगिता) या बस बातचीत में शामिल हों सोशल मीडिया पर #worldmilkday या #enjoydairy उपयोग करे”.

उन्होंने कोविद-19 वैश्विक महामारी के प्रकाश में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और आपकी स्थानीय सरकार द्वारा रखी गई नीतियों का पालन करने कहा है. इसलिए सोशल मीडिया अभियानों या ऑनलाइन कार्यक्रमों की मेजबानी करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जा रहा.

एक जून चुनने के पीछे कारण

वर्ल्ड मिल्क डे मनाने के लिए एक जून की तारीख ही तय की है. इसके पीछे भी एक खास वजह है. दरअसल कई देश पहले से ही इस समय या उसके आसपास नेशनल मिल्क डे मना रहे थे. मई के अंत में इसे मूल रूप से प्रस्तावित किया गया था, लेकिन अधिकांश देशों ने इसे एक जून को मनाने का तय किया.

कुछ देशों, जैसे चीन ने महसूस किया कि उनके पास पहले से ही उस महीने में बहुत सारे समारोह है. जबकि अधिकांश देश 1 जून को अपना उत्सव मनाते थे. वहीं कुछ लोग इस तिथि से एक सप्ताह पहले या बाद में उन्हें चुनना चाहते थे.

Anjali Kumari

Aspiring news reporter and radio jockey.

One thought on “वर्ल्ड मिल्क डे 2020 : इतिहास, महत्व और इस वर्ष का विषय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *