बाथरूम में ही क्यों आते हैं सबसे ज्‍यादा Heart Attack, जानिए कारण

हार्ट अटैक (Heart Attack) या कार्डियक अरेस्ट (Cardiac Arrest) आज के दौर में लोगों के लिए सबसे गंभीर समस्या बन गया है. हार्ट अटैक अचानक ही होता है और इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं. हार्ट अटैक आने का कोई निर्धारित समय या मौसम नहीं नहीं होता है. हालांकि, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सबसे ज्यादा हार्ट अटैक या कार्डियक अरेस्ट सुबह के समय बाथरूम के अंदर आते हैं.

‘OCD’ का शिकार होती है मां बनने वाली हर 5वीं महिला, पढ़िए पूरी खबर

आखिर क्या वजह है कि लोगों को बाथरूम में हार्ट अटैक ज्यादा आता है। जानिए क्या है बाथरूम से दिल का दौरा।

चाहे कार्डिएक अरेस्ट हो या हार्ट अटैक, दोनों ही हमारे ब्लड सर्कुलेशन से संबंधित हैं। रक्त संचार का हमारे दिल पर सीधा प्रभाव पड़ता है। रक्त परिसंचरण हृदय द्वारा ही नियंत्रित होता है, जो हमारे शरीर की गतिविधियों को ठीक से और प्रत्येक अंग को क्रियाशील रखता है। वास्तव में, जब हम बाथरूम की टॉयलेट सीट पर बैठते हैं और अधिक दबाव डालते हैं, तो यह सीधे हमारे रक्त परिसंचरण को प्रभावित करता है। यह दबाव दिल की धमनियों पर दबाव बढ़ाता है, जो दिल का दौरा या कार्डियक अरेस्ट का कारण बन जाता है।

भारत के कोरोना स्ट्रेन को लेकर परेशान हुआ पूरा विश्व

कभी-कभी स्नान करते समय दिल का दौरा पड़ता है। स्नान करने के बारे में, डॉक्टर सलाह देते हैं कि बाथरूम जाने से पहले, अपने पूल पर पानी डालें, इसके बाद धीरे-धीरे स्नान करें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं और सीधे सिर पर ठंडा पानी डालते हैं, तो इससे रक्त संचार पर बुरा असर पड़ता है। जिन लोगों को दिल की बीमारी है, उन्हें इससे बचना चाहिए। सीधे सिर पर पानी डालने से, कई बार व्यक्ति के दिल की धड़कन तुरंत रुक जाती है। यदि आप अचानक अपने शरीर पर गर्म या ठंडा पानी डालते हैं, तो इससे रक्त संचार पर दबाव पड़ता है। लेकिन अगर आप पहले पैरों में धीरे-धीरे पानी डालते हैं, तो यह सीधे रक्त परिसंचरण को प्रभावित नहीं करता है। इसलिए बाथरूम में इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

इन टिप्स से हंसते-हंसते हरा देंगे कोरोना

लंबे समय तक बाथरूम में बैठे रहना, शरीर को साफ करने के लिए अधिक दबाव डालना, दोनों पैरों से अधिक देर तक बैठना, जल्दबाजी में स्नान करना, बाथटब में अधिक बैठना, इन सबका हृदय पर प्रभाव पड़ता है। इससे धमनियों पर दबाव बढ़ जाता है, जिससे रक्त प्रवाह प्रभावित होता है। इसके कारण हार्ट अटैक या कार्डियक अरेस्ट होता है।

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: