कोरोना काल में बढ़ा ई हेल्थ सुविधाओं का क्रेज, सर्वे में आया सामने

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण काल के दौरान सभी कुछ ऑनलाइन हो गया. बच्चों की क्लास, ऑफिस का काम यहां तक की अस्पताल के डॉक्टर भी ऑनलाइन उपलब्ध होने लगे. ऑनलाइन यानी ईलेक्ट्रॉनिक की दुनिया में हेल्थ केयर सर्विस की बढ़ती मांग को देखते हुए एक खास सर्वे किया गया है जिसमें कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए है.

कुल 6 महीने चली स्टडी

दिल्ली यूनिवर्सिटी की फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज की ओर से किए गए इस सर्वे में 50 पुरुष, 13 महिलाएं और दो अन्य लोगों ने हिस्सा लिया. इनकी उम्र 34 से 64 साल के बीच की रही. सर्वे में हिस्सा ले रहे सभी 63 प्रतिभागियों के पास इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध थी. अधिकतर प्रतिभागी स्मार्टफोन, लैपटॉप, कम्प्यूटर, टैबलेट और आईपैड के जरिए इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे थे.

एम्स के डॉक्टर से जानें ब्लैक फंगस से बचाव का तरीका, देखें वीडियो

इस सर्वे को पूरा करने में टीम को कुल छह महीने का समय लगा. इस टीम में डॉ. मोहित तिवारी, डॉ. आशीष गोयल, डॉ. सुष्मा चौधरी, डॉ. उज्जवल वैद, डॉ. विजय गोयल और डॉ. यासिर रिजवी शामिल रहे. सभी की टीम ने मिलकर लंबे समय तक इस सर्वे में अलग अलग पहलुओं पर रिसर्च की.

अलग अलग होते हैं सर्च

डॉ. मोहित तिवारी बताते हैं कि इस सर्वे में सामने आया कि लोग अपनी जरुरत के मुताबिक अलग अलग मुद्दों को इंटरनेट पर सर्च करते हैं. कभी इलाज, कभी दवाई की जानकारी तो कभी डॉक्टर से संपर्क करने का तरीका. इंटरनेट पर सामने आई जानकारी के बाद ही लोग तय करते हैं कि आगे उन्हें क्या करना है और क्या नहीं. मसलन खुद दवाई लेनी है या डॉक्टर से कंसल्ट करना है या कुछ समय इंतजार करना है.

देश में बढ़ रहा ई- हेल्थ

आंकड़ों की मानें तो देश में ई हेल्थ के मायने अब बढ़ने लगे है. लोग डॉक्टर से कंसल्ट करने के लिए फोन या इंटरनेट का इस्तेमाल बेझिझक करते है. इसके अलावा ऑनलाइन या ई माध्यम पर अपने हेल्थ रिकॉर्ड, रिपोर्ट्स या मेडिकल रिकॉर्ड को सेव रखते है. इसके अलावा स्पेशल हेल्थ सर्विस पर भी काफी फोकस किया गया.

अब डरा रहा छिपकली में मिलने वाला फंगस

इतना ही नहीं कोरोना संक्रमण काल में जब लॉकडाउन के कारण घरों से बाहर निकलने पर पाबंदी थी तो लोगों ने ऑनलाइन फार्मेसी का जमकर इस्तेमाल किया. सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक 82.5% लोगों ने ऑनलाइन फार्मेसी से दवाईयां मंगवाई. ई फार्मेसी के जरिए लोगों की जिंदगी बहुत आसान हुई.

इस सेवा का करते थे इस्तेमाल

सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक 87.3% लोग डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए, 81% लोग लैब से टेस्ट बुक करने या रिजल्ट पता करने के लिए, डॉक्टर से ऑनलाइन कॉन्टेक्ट करने के लिए 54% लोग ही इंटरनेट का इस्तेमाल करते थे. इसके अलावा 68.3% लोग ऑनलाइन दवाईयां मंगवाने के लिए ई फार्मेसी का इस्तेमाल करते थे.

क्लीनिक जाना ही है पहली पसंद

हालांकि लोगों ने ये भी माना की उन्हें क्लीनिक पर जाकर डॉक्टर से इलाज कराना अधिक लाभकारी लगता है. इसके लिए 90% लोगों ने अपना समर्थन दिया. जबकि 9% ने टेलीफोन के जरिए और 19% ने वीडियो कंसल्टेशन के जरिए इलाज कराने की बात की.

कई दुष्परिणाम भी आए सामने

इस सर्वे में ये भी सामने आया कि ऑनलाइन मिलने वाली सुविधाओं के कुछ नकारात्मक पहलू भी होते है. कई मामलों में मोबाइल या इंटरनेट का न होना, कई टेक्नीकल समस्याएं आना, कई सर्विस या सुविधाओं का जानकारी का न होना. इन सबके कारण भी लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा. कई ई सर्विस पर भरोसा करना भी मुश्किल भरा काम था.

व्हाइट फंगस के ये हैं लक्षण, ऐसे करें पहचान

सर्वे में शामिल 91.8% लोगों को फिजिकल एग्जामिनेशन न होना सबसे बड़ा दुष्प्रभाव लगा. सर्वे में शामिल लोगों का सीधा मानना है कि जबतक डॉक्टर सामने से मरीज को नहीं देखता तबतक जांच पूरी अच्छी तरह से नहीं हो पाती. 50.8% लोगों को अपने डाटा को लेकर चिंता थी जबकि 42.6% को इलेक्ट्रॉनिक गड़बड़ी होने की आशंका थी.

भविष्य होगा सकारात्मक

इस सर्वे को लीड कर रहे डॉ. मोहित तिवारी के मुताबिक भविष्य में ई हेल्थ सुविधाओं में अधिक इजाफा होगा. भविष्य वैसे भी इंटरनेट से जुड़ा हुआ है. आजकल कई एप्स आ रहे है. नई नई टेक्नोलॉजी बढ़ती जा रही है. ऐसे में हेल्थ केर सेक्टर में भी नई सुविधाएं आएंगी जिनसे लोगों की जिंदगी आसान बनेगी.

One thought on “कोरोना काल में बढ़ा ई हेल्थ सुविधाओं का क्रेज, सर्वे में आया सामने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: