इंजीनियर पदों पर नियुक्ति नहीं होने से रुका विकास कार्य

नई दिल्ली. राज्य में कोरोना संकट के बीच युवा रोजगार के लिए आवाज उठाने लगे है. राज्य में बेरोजगार युवाओं के लिए कोरोना संकट के दौरान जीवन निर्वहन करना मुश्किल होता जा रहा है. यही कारण है कि अब बेरोजगार युवा इंजीनियरों ने भी उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ बिगुल बजा दिया है.

Career Tips: सफल करियर के साथ है अच्छी आमदनी के लिए करें स्पा मैनेजमेंट

दरअसल इंजीनियर कई मांगों को लेकर सरकार से गुहार लगा रहे हैं मगर सरकार उनकी बातों पर गौर नहीं कर रही. इंजीनियर नई भर्ती का इंतजार कर रहे है मगर सरकार की ओर से नए पद के लिए घोषणा नहीं की जा रही है. दो साल का समय बीतने के बाद भी सरकार ने नई पदों पर नियुक्ति की घोषणा नहीं की है.

IIT Kharagpur छात्रों के साथ बदसलूकी के मामले में NCSC कमीशन ने लिया संज्ञान, डायरेक्टर से मांगा जवाब

इस संबंध में ग्रेजुएट इंजीनियरिंग स्टूडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष दीपक सिंह की ओर से उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष संजय श्रीनेत को पत्र लिखा है. इस पत्र के जरिए मांग की गई है कि बीते दो सालों से राज्य में सहाकय अभियंता भर्ती परीक्षा का आयोजन नहीं किया गया है. सरकार ने इस पद से संबंधित कोई नया विज्ञापन तक जारी नहीं किया है.

आरटीआई भी लगाई

दीपक ने बताया कि इस संबंध में एक आरटीआई भी लगाई गई थी. इसमें सामने आया कि सभी विभागों ने लोक सेवा आयोग को अपने अपने विभागों के मुताबिक पदों की जानकारी मुहैया करा दी है. इसके बाद भी दो सालों से इंजीनियर नई भर्तियों का इंतजार कर रहे है. सरकार द्वारा जब लंबे समय तक भर्तियां नहीं निकाली जाती है तो इससे अभ्यार्थियों को काफी नुकसान होता है. यहां तक की कई अभ्यार्थियों की उम्र भी निकल जाती है.

राज्य में असिस्टेंट इंजीनियरों की कमी

बता दें की राज्य में असिस्टेंट इंजीनियरों की कमी है. ऐसे में राज्य के कई विकास कार्य प्रभावित हो रहे है. इसी के साथ अभ्यार्थियों का भविष्य भी अंधकारमय होता जा रहा है. ऐसे में एसोसिएशन की तरफ से मांग की गई है कि राज्य में असिस्टेंट इंजीनियरों के पदों पर जल्द से जल्द नियुक्तियां कराई जाए. इसके लिए विज्ञापन जारी किया जाए.

बीटेक के लिए जगह नहीं

इस मांग के अलावा एसोसिएशन ने एक अन्य मुद्दा भी उठाया है. मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश से बीटेक करने वाले अभ्यार्थियों को राज्य में जूनियर इंजीनियर पदों पर नियुक्ति नहीं दी जाती है. ऐसे में एसोसिएशन की मांग है कि राज्य से बीटेक करने वाले छात्रों को भी राज्य में नौकरी करने का अवसर मिलना चाहिए जैसा की अन्य राज्यों में होता है.

युवा बेरोजगार, सोती रही सरकार

बता दें की देश के अन्य राज्य जैसे मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा समेत कई राज्यों में बीटेक अभ्यार्थइयों को जूनियर पदों पर नियुक्ति दी जाती है. सिर्फ राज्य ही नहीं बल्कि केंद्र सरकार के विभाग जैसे एसएससी, रेलवे में जूनियर पदों पर नियुक्ति के लिए बीटेक अभ्यार्थियों को मौका देते है. मगर उत्तर प्रदेश में बीटेक अभ्यर्थियों के साथ अन्याय किया जाता है. राज्य सरकार को भी बीटेक अभ्यर्थियों को मौका देना चाहिए.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: