देश के 48वें चीफ जस्टिस बने एनवी रमन, 16 महीने तक संभालेंगे पदभार

देश के 48वें चीफ जस्टिस के तौर पर नूथालपति वेंकट रमन को आज 24 अप्रैल को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद की शपथ दिलाई। जस्टिस रमन राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक संक्षिप्त समारोह में अंग्रेजी में शपथ ली। इस शपथ ग्रहण समारोह के मौके पर वाइस प्रेसिडेंट एम वेंकटेश नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद भी उपस्थित रहे। जस्टिस रमन ने जस्टिस एसए बोबडे के स्थान पर पदभार संभाला है। वह इस पद पर करीब 16 महीने तक रहेंगे।

24 मार्च को बोबड़े ने उनके नाम की सिफारिश सरकार को भेजी थी। बता दें कि 45 साल से ज्यादा का न्यायिक अनुभव रखने वाले और संवैधानिक मामलों के जानकार एनवी रमना का कार्यकाल 26 अगस्त 2022 तक का होगा यानी वो दो साल से भी कम समय के लिए मुख्य न्यायाधीश के पद पर रहेंगे। बता दें कि रमन्ना आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के पहले ऐसे जज होंगे, जो मुख्य न्यायाधीश बने हैं।

सीनियर जस्टिस एनवी रमन्ना का जन्म 27 अगस्त 1957 को आंध्र प्रदेश के कृष्ण जिले के पोन्नवरम गांव में एक कृषि परिवार में हुआ था। पहले, वह दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश और आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश भी थे। उन्होंने आंध्र प्रदेश न्यायिक अकादमी के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया है। आंध्र प्रदेश के रहने वाले एन.वी रमन्ना वर्ष 2000 में आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट में स्थायी जज के तौर पर चुने गए थे। फरवरी, 2014 में सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर नियुक्ति से पहले वह दिल्ली हाई कोर्ट में थे। 63 वर्षीय रमन्ना ने 10 फरवरी, 1983 से अपने न्यायिक करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने आंध्र प्रदेश से वकील के तौर पर शुरुआत की थी।

जस्टिस एन वी रमन्ना ने आंध्र प्रदेश, मध्य और आंध्र प्रदेश प्रशासनिक न्यायाधिकरणों और भारत के सर्वोच्च न्यायालय में सिविल, आपराधिक, संवैधानिक, श्रम, सेवा और चुनाव मामलों में उच्च न्यायालय में प्रैक्टिस की है। उन्हें संवैधानिक, आपराधिक, सेवा और अंतर-राज्यीय नदी कानूनों में विशेषज्ञता हासिल है। रमन्ना को संवैधानिक, आपराधिक और इंटर-स्टेट नदी जल बंटवारे के कानूनों का खास जानकार माना जाता है। करीब 45 साल का लंबा अनुभव रखने वाले एनवी रमन्ना सुप्रीम कोर्ट के कई अहम फैसले सुनाने वाली संवैधानिक बेंच का हिस्सा रहे हैं।

16 महीने तक रहेंगे देश के चीफ जस्टिस

सितंबर 2013 में जस्टिस एनवी रमन को दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के तौर पर नियुक्त किया गया। फरवरी 2014 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में जज के तौर पर प्रोन्नत किया गया। अब वह सुप्रीम कोर्ट में 48वें चीफ जस्टिस के तौर पर कार्यरत हैं। वह अपने पद से 26 अगस्त 2022 को रिटायर होंगे। इस प्रकार जस्टिस एनवी रमन देश के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर करीब 16 महीने तक कार्य करेंगे।

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: