नहीं खत्म हो रही परेशानी, अब नर्सों ने की हड़ताल

नई दिल्ली. कोरोना वायरस काल में इन दिनों अस्पताल कर्मचारी और सरकार भी आमने सामने आने लगे हैं. कभी डॉक्टर तो कभी नर्सिंग स्टाफ अपनी मांगों को लेकर सरकार से मांग करते नजर आ रहे हैं. इस बार राजस्थान में नर्सिंग स्टाफ ने सरकार से आर पार की लड़ाई का मूड बना लिया है.

कर्नाटक में डॉक्टर के साथ हुई मारपीट, वीडियो वायरल

बता दें कि राजस्थान में पूरे प्रदेश में नर्सिंग स्टाफ आज से हड़ताल पर है. नर्सिंग कर्मी सुबह 10 से 12 बजे तक कार्य बहिष्कार कर रहे हैं. नर्सिंग कर्मचारियों का कहना है कि वो कोविड वार्ड, आईसीयू, जनरल वार्ड कहीं भी ड्यूटी नहीं करेंगे. इस हड़ताल में प्रदेश के 3300 नर्सिंग कर्मचारी शामिल हैं.

Nursing Staff on Strike

ऐसे में मरीजों की देखभाल को लेकर समस्या भी खड़ी हो गई है. गौरतलब है कि नर्सिंग स्टाफ स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इनकी कर्तव्य निष्ठा, प्यार, भाव, अनुशासन के जरिए ही लोगों को बेहतर स्वास्थ्य मिलता है. नर्सिंग स्टाफ मरीजों की सेवा करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं.

शर्मनाक! मुख्यमंत्री से मिलने आए डॉक्टरों को थाने ले गई पुलिस, देखें वीडियो

वहीं अस्पतालों में योग्य डॉक्टरों को सहयोग से मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं मिल पाती है वहीं जो नर्सिंग स्टाफ दिन रात मरीजों की सेवा में जुटता है वो भी समाज के लिए मिसाल है. मगर राजस्थान सरकार को नर्सों के योगदान की अहमियत शायद समझ नहीं आ रही इसलिए ही उनकी मांगों पर गौर करने की जगह सरकार उन्हें कार्य बहिष्कार करने को मजबूर कर रही है.

नर्सिंग कर्मचारियों का कहना है कि राजस्थान एनएचएम 2016 भर्ती में लगे नर्स ग्रेड 2 के कर्मचारी वेतन बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. इस संबंध में हमने बात की नर्सिंग स्टाफ महेंद्र चौधरी से. उन्होंने बताया कि वेतन को लेकर सालों से हमारा शोषण किया जा रहा है. नर्सिंग स्टाफ को मात्र 7900 रुपये महिना वेतन मिलता है. अब हम इस आर्थिक शोषण के खिलाफ हम आवाज उठा रहे हैं. सरकार को हमारा वेतन अब बढ़ाना होगा.

नर्सिंग कर्मचारियों का कहना है कि सरकार मेहंगाई को बढ़ने से नहीं रोक पाती. मगर वहीं जब बात हमारा वेतन बढ़ाने की होती है तो उसमें रोक लगा दी जाती है. 7900 रुपयों में परिवार का खर्च चलाना बेहद मुश्किल होता है. सरकार को हमारा वेतन बढ़ाकर 26500 रुपये करना होगा. अन्य राज्यों में भी नर्सिंग कर्मियों को इतना वेतन मिलता है तो ये भेदभाव हमारे साथ ही क्यों किया जा रहा है. जबकि हम नर्सिंग स्टाफ का हर दायित्व पूरी तरह निभाते हैं.

आर पार के मूड में बाबा रामदेव, आईएमए से पूछ डाले ये सवाल

कर्मचारियों के मुताबिक अब वो अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार करेंगे. जबतक सरकार वेतन संबंधित मांग को नहीं मानेगी और नर्सिंग स्टाफ के वेतन में बढ़ोतरी नहीं करती तबतक कार्य बहिष्कार जारी रहेगा. ये कार्य बहिष्कार राज्य स्तर पर जारी रहेगा. यानी पूरे राज्य के नर्सिंग स्टाफ अब कार्य बहिष्कार के लिए मजबूर हैं.

17 महीनों से कर रहे मांग

नर्सिंग स्टाफ का कहना है कि वेतन बढ़ोतरी की मांग को लेकर स्टाफ बीते 17 महीनों से सरकार से गुजारिश कर रहे हैं. मगर सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही. एक तरफ कोरोना संक्रमण काल में मरीजों की देखभाल के लिए नर्सिंग स्टाफ अपनी जी जान लगा रहा है वहीं सरकार को उनकी चिंता नहीं है.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

%d bloggers like this: