शादी से पहले लड़के करा लें ये 7 मेडिकल टेस्ट, हेल्दी सेक्स-हैप्पी मैरिड लाइफ के लिए हैं जरूरी

शादी से पहले हमारे यहां कुंडली मैच कराई जाती है लेकिन मेडिकल टेस्ट पर ध्यान नहीं दिया जाता। जबकि स्वास्थ्य के हिसाब से हेल्थ चेकअप कराना बहुत जरूरी है। शादी से पहले कुछ ही कपल्स मेडिकल जांच कराते हैं। लड़कों के लिए यहां पर कुछ जरूरी मेडिकल टेस्ट (Premarital Medical Test) बताए जा रहे हैं। शादी करने की प्लानिंग कर रहे पुरुष इस पर ध्यान दें। मैरिज के लिए लाखों खर्च करने की प्लानिंग करने वाले लड़कों का सेक्शुअल वेलनेस (Sexual Wellness) या हेल्दी मैरिड लाइफ के लिए इतना करना तो बनता है।
शादी से पहले होने वाले मेडिकल टेस्ट किसके लिए जरूरी हैं?

क्या आप शादी से पहले खुद को हष्ट-पुष्ट या तंदरूस्त मानते हैं या आपको अपने शरीर या गुप्तांगों में किसी प्रकार की समस्या महसूस हो रही है? आपका जवाब हां या ना जो भी हो लेकिन शादी के पहले मेडिकल टेस्ट अवश्य कराएं। यह बहुत जरूरी है।

शादी के कितने दिन पहले कराना चाहिए मेडिकल टेस्ट?

शादी के कितने दिन पहले मेडिकल टेस्ट कराना सही होता है? इसका जवाब देना थोड़ा मुश्किल है लेकिन अपने समयानुसार कराएं। आप शादी से 1 साल या 1 माह या 1 सप्ताह पहले भी मेडिकल टेस्ट करा सकते हैं। लेकिन समय रहते चेकअप कराने पर किसी तरह की समस्या दिखने पर पहले से इलाज करा सकते हैं। इसलिए पहले ही चेकअप कराने की कोशिश करें।

शादी से पहले मेडिकल टेस्ट क्यों जरूरी है?

मैरिज से पहले लोग शॉपिंग या रॉयल वेडिंग की सोचते हैं। भला मेडिकल टेस्ट के बारे में कौन सोचे? मगर सोचना और जांच कराना दोनों जरूरी है। मेडिकल टेस्ट कराने में न कोई हर्ज है और न ही इससे कोई नुकसान होने वाला है। बल्कि हम खुद को शादी के बाद भी हेल्दी रखने के लिए ऐसा कर सकते हैं। इससे शादी के बाद होने वाली मेडिकल प्रॉब्लम से बचा सकते हैं। एक जागरूक कपल को शादी से पहले स्वास्थ्य की जांच करानी चाहिए।

चलिए हम शादी से पहले होने वाले मेडिकल टेस्ट के बारे में जान लेते हैं-

  1. यौन संचारित रोगों की जांच / एसटीडी टेस्ट (STD Test)

कई बार यौन संचारित रोग के बारे में पता नहीं चल पाता है। बाद में इनकी वजह से सेक्स लाइफ में दिक्कत आने लगती है। क्योंकि शादी के बाद सेक्स नियमित रूप से होने लगता है। इसलिए दोनों के लिए यौन संचारित रोगों (सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज) की जांच करना जरूरी है।

यदि आपने शादी से पहले किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाए हैं तो अवश्य जांच कराएं। आपको इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसके अलावा पब्लिक टॉयलेट यूज करने से भी कई बार गुप्तांगों में समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसलिए एसटीडी जांच करा लें।

  1. एड्स / एचआईवी की जांच (HIV Test)

एड्स / एचआईवी के प्रति जागरूक किया जाता है। इसके फैलने के कई कारण होते हैं। इसलिए शादी से पहले लड़के और लड़की दोनों को एचआईवी टेस्ट करा लेना चाहिए। स्वास्थ के हिसाब से इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इसे अनदेखा करना दोनों के जीवन पर भारी पड़ सकता है।

  1. इनफर्टिलिटी टेस्ट / स्पर्म काउंट (Infertility Test)

प्रजनन परीक्षण / इनफर्टिलिटी टेस्ट प्रजनन अंगों के स्वास्थ्य और स्पर्म काउंट के बारे में सटीक जानकारी देने के लिए किया जाता है। शादी के बाद हर कोई माता-पिता बनने की चाहत रखता है। इसलिए इनफर्टिलिटी टेस्ट करा लें। इस टेस्ट को करने से संतान उत्पति में होने वाली दिक्कत को शादी से पूर्व ही समाप्त कर सकते हैं। यदि पुरुषों के स्पर्म काउंट कम हैं तो उसको बढ़ा सकते हैं। साथ ही अपने गुप्तांग पेनिस आदि को हेल्दी रख सकते हैं।

  1. रक्त परीक्षण (Blood Test)

शादी से पहले रक्त परीक्षण यानी ब्लड टेस्ट करानी जरूरी है। इससे रक्त विकार का पता आसानी से चल सकता है जिससे कि संतान प्राप्ति में दिक्कत नहीं होगी। हीमोफीलिया या थैलेसीमिया इन्‍हीं रोगों में से एक है। इसी वजह से हमें शादी से पहले समय रहते खून की जांच जरूर करानी चाहिए। खासकर, यह टेस्ट महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है। इसका मतलब यह नहीं कि पुरुष अपने खून की जांच न कराएं।

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *