जानें क्या है Indian Medical Service जिसके निर्माण की मांग कर रहे डॉक्टर

नई दिल्ली. कोरोना काल में जिस तरह से डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ लगातार काम कर रहे हैं उन्होंने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि धरती पर वो भगवान का ही रुप हैं. बीमारी या पीड़ा में मुंह से भगवान का नाम आता है. वो एक डॉक्टर ही है जो मरीज को मौत के मुंह से बाहर लाने की ताकत रखता है. वहीं आज इस महामारी के समय में जब डॉक्टर सैंकड़ों लाखों लोगों की जान बचा कर उन्हें दूसरा जीवन दान दे रहे हैं तो वो भगवान से कम दर्जा देना भी ठीक नहीं है.

इसी बीच भगवान का दूसरा रुप माने जाने वाले डॉक्टरों ने सोशल मीडिया पर एक नई मुहिम चलाई हुई है. दरअसल डॉक्टर इंडियन मेडिकल सर्विस कैडर बनाए जाने की मांग कर रहे हैं. इस मेडिकल सर्विस के जरिए स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर होंगी और आने वाले समय में लोगों को अच्छी सुविधाएं मिलेंगी.

फोर्डा ने लिखा पत्र

इस संबंध में फोर्डा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भी लिखा है. इस पत्र के माध्यम से उन्होंने इंडियन मेडिकल सर्विस होने के महत्व को बताया है. हमने फोर्डा के अध्यक्ष डॉ. पार्थ बोरा से बात की. उन्होंने कहा कि आज जब कोरोना संक्रमण से देश जूझ रहा है तो हमारी जरुरत है कि इंडियन मेडिकल सर्विस का निर्माण किया जाए. अगर समय रहते इसका निर्माण किया जाएगा तो आने वाले समय में होने वाले भारी नुकसान से देश को बचाया जा सकता है.

अगर इस महामारी से निपटने की जिम्मेदारी डॉक्टरों व मेडिकल स्टाफ पर होती तो यह बीमारी इतना भयावह रुप नहीं ले पाती. इससे पहले पार्लियामेंट्री कमेटी ने भी इस मांग का समर्थन किया है मगर दुर्भाग्य है कि इसका निर्माण नहीं हो सका है. वहीं ट्वीटर पर भी इंडियन मेडिकल सर्विस के निर्माण की मांग उठाई जा रही है.

इस संबंध में The Depth News ने बात की यूनाइटेड रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (यूआरडीए)के अध्यक्ष डॉक्टर मनु गौतम से. उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण काल में हमने देखा है कैसे कई राज्यों में स्वास्थ्य सेवाएं ठप्प हुई है. अगर इन सेवाओं को हमें बेहतर बनाना है तो जल्द से जल्द इंडियन मेडिकल सर्विस कैडर का बनना बहुत जरूरी है.

क्या है इंडियन मेडिकल कैडर

बता दें कि इंडियन मेडिकल कैडर के जरिए मेडिकल फील्ड संबंधित सभी पॉलिसी निर्माण का कार्य किया जाएगा. डॉ. मनु ने बताया कि मेडिकल फील्ड में इन दिनों देखने में आ रहा है कि स्वास्थ्य सेवाएं गड़बड़ा रही हैं. इसका मूल रुप से कारण है कि स्वास्थ्य संबंधी पॉलिसी बनाने का काम वो लोग करते हैं जिनका मेडिकल फील्ड से कोई नाता नहीं होता. जिन्हें अस्पताल, डॉक्टर, दवाईयों आदि की मूल जानकारी नहीं होती.

किसी पॉलिसी को बनाने के लिए जरूरी है कि उसके संबंध में पूरी शत प्रतिशत जानकारी हो तभी वो सक्सेसफुल भी हो सकता है. वर्तमान हालातों को देखते हुए ये बहुत जरूरी है कि इंडियन मेडिकल सर्विस का निर्माण किया जाए.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: