भारतीय स्टार्टअप्स के सैटेलाइट्स का अंतरिक्ष में होगा दबदबा, ISRO ने पहली बार की प्राइवेट उपग्रहों की टेस्टिंग

भारतीय स्टार्टअप्स द्वारा दो उपग्रहों SpaceKidz India और Pixxel का भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के यूआर राव सैटेलाइट केंद्र में परीक्षण किया गया। यह अंतरिक्ष एजेंसी के लिए पहला मामला है, जिसने अब तक केवल उपग्रहों और रॉकेटों के विभिन्न भागों के निर्माण में मदद की है।

यह भारत द्वारा पिछले साल जून में अपने अंतरिक्ष क्षेत्र को निजी खिलाड़ियों के लिए खोलने के बाद संभव हो पाया है। एक स्वतंत्र भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (IN-SPACe) की स्थापना न केवल निजी क्षेत्र की अंतरिक्ष गतिविधि की देखरेख करने के लिए की गई थी, बल्कि इसरो की सुविधाओं को संभालने और साझा करने के लिए भी इसकी परिकल्पना की गई थी। 

इस घोषणा के ठीक आठ महीने बाद, ISRO इन कॉमर्सियल उपग्रहों को इस महीने के अंत में निर्धारित PSLV मिशन में लॉन्च करने के लिए तैयार है। यह पहला मिशन होगा जहां भारतीय उद्योग द्वारा उपग्रहों को व्यावसायिक रूप से इसरो द्वारा लॉन्च किया जाएगा।

स्पेसक्रिडज़ इंडिया के छात्रों द्वारा डिज़ाइन किया गया एक उपग्रह इसरो द्वारा जनवरी 2019 में एक प्रयोग के रूप में पीएसएलवी के तीसरे चरण का उपयोग करके लॉन्च किया गया था, जो आमतौर पर बेकार हो जाता है।

पीएसएलवी सी-51 मिशन एक अमेरिकी उपग्रह अमोनिया-1 को न्यूस्पेस इंडिया द्वारा सीमित कॉमर्सियल व्यवस्था के तहत ले जाएगा। आपको बता दें कि यह इसरो की एक कॉमर्सियल शाखा है। इसके अलावा प्रक्षेपण यान 20 यात्री उपग्रहों को भी साथ ले जाएगा। इनमें इसरो का एक नैनोसेटेलाइट भी शामिल है। 

एक अन्य स्टार्टअप Skyroot एक लॉन्चिग वाहन विकसित करने की दिशा में काम कर रहा है, जो कि साल के अंत तक लॉन्च होने की संभावना है।

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *