बाबा रामदेव के खिलाफ कल मोर्चा खोलेंगे देशभर के डॉक्टर

नई दिल्ली. एलोपैथी पर दिए गए बयान के बाद योगगुरु बाबा रामदेव की मुश्किलें बढ़ती जा रही है. कोरोना संक्रमण के बीच ही अब डॉक्टरों ने कल एक जून यानी मंगलवार को बाबा रामदेव के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन करने का फैसला किया है.

बाबा रामदेव की बढ़ी मुश्किलें, आईएमए ने दर्ज की शिकायत

इस बयान के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए), फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (FORDA), फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन (FAIMA), सफदरजंग अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन समेत देश के सभी बड़े डॉक्टर एसोसिएशन इस प्रदर्शन का समर्थन कर रहे है.

फाइमा के अध्यक्ष डॉ. राकेश बागड़ी ने कहा कि बाबा रामदेव ने अबतक जो दावे किए हैं उनका कोई सबूत नहीं है. उन्होंने जिस एलोपैथी पर सवाल उठाए हैं उसी एलोपैथी की वजह से सालों से लोगों की जान बचाई गई और अनगिनत लोगों की बीमारी ठीक हुई है. इस समय में भी डॉक्टर कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करते हुए खुद अपनी जान गंवा चुके है. एक तरफ डॉक्टरों ने अपनी जान की बाजी लगा दी है वहीं बाबा रामदेव जैसे लोग जनता को डॉक्टरों के खिलाफ भड़काने का काम कर रहे है. उनके खिलाफ सीधे मुकदमा दर्ज होना चाहिए.

बाबा रामदेव का नया वीडियो वायरल, बता रहे तुलसी से खत्म होगा रेडिएशन

इस संबंध में डॉक्टर एसोसिएशन जम्मू के अध्यक्ष डॉ. बलविंदर सिंह ने बताया कि हम काली पट्टी बांध कर काम करेंगे ताकि मरीजों के इलाज में परेशानी न हो. जबसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे पेंडेमिक घोषित किया है तब से हेल्थ केयर वर्कर्स ही हैं जो अपने परिवार की चिंता किए बिना भी मरीजों का इलाज कर रहे है. इस समय जहां डॉक्टरों और हेल्थ केयर वर्कर्स के साथ कृतज्ञ होना चाहिए वहीं बाबा रामदेव ऐसे अपशब्दों का इस्तेमाल कर रहे है.

इस संबंध में बाबा रामदेव के खिलाफ अब फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (FORDA) के अध्यक्ष डॉ. मनीष ने बताया कि एक जून को देश भर के डॉक्टर बाबा रामदेव के बयानों के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे. इस दौरान सभी डॉक्टर काली पट्टी बांध कर काम करेंगे. हमें उम्मीद है कि इस ब्लैक डे प्रोटेस्ट के जरिए सरकार तक हमारी आवाज पहुंचेगी. बाबा रामदेव ने बीते दिनों जो भी बयान दिए हैं वो निंदनीय है.

बाबा रामदेव पर चले देशद्रोह का मामला : आईएमए

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन के ज्वाइंट सेक्रेट्री निलेश तनेजा ने कहा कि बाबा रामदेव की बातें ध्यान देने योग्य नहीं है. एलोपैथी पर सवाल उठाने का कोई कारण ही नहीं है क्योंकि एलोपैथी में जो भी दवाईयां इस्तेमाल की जाती है वो पहले टेस्ट होती है फिर उन्हें संबंधित विभाग से पास किया जाता है. ऐसे में “tried & tested” दवाईयों पर सवाल उठाने का औचित्य नहीं है. बाबा रामदेव से माफी मंगवाने के लिए ये प्रदर्शन हो रहा है. इसमें हम सभी डॉक्टर अपने व्हाट्सएप, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया अकाउंट की डीपी भी ब्लैक करेंगे.

रामदेव के खिलाफ सड़क पर उतरे डॉक्टर

इनके अलावा कर्नाटक एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स, एसोसिएशन ऑफ डीएनबी डॉक्टर्स समेत देश भर के छोटे बड़े डॉक्टर एसोसिएशन बाबा रामदेव के खिलाफ प्रोटेस्ट में हिस्सा लेंगे. जबतक बाबा रामदेव के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती डॉक्टर्स शांत नहीं होंगे.

आईएमए और फाइमा ने भेजा नोटिस

इससे पहले योग गुरु बाबा रामदेव को उनके बयान के खिलाफ आईएमए और फाइमा कानूनी नोटिस भेज चुकी है. आईएमए ने कानूनी नोटिस में कहा कि बाबा रामदेव अपने बयान के लिए 15 दिनों में सशर्त माफी मांगे. ऐसा नहीं होने पर उन्हें 1000 करोड़ रुपये का मानहानि का नोटिस थमा दिया जाएगा. इसके अलावा 72 घंटों में कोरोनिल किट के भ्रामक विज्ञापन हटाए जाने के लिए भी आईएमए ने मांग की थी.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: