पाकिस्तान फिर होगा बेनकाब, FATF मीटिंग में भारत दुनिया के सामने रखेगा पुलवामा हमले के सबूत

आतंकवादियों के पनाहगाह पाकिस्तान को दुनिया के सामने बेनकाब करने के लिए भारत ने बड़े स्तर पर तैयारी की है. मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग पर ग्लोबल वॉचडॉग फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की अक्टूबर के तीसरे हफ्ते में वर्चुअल मीटिंग होने वाली है. सूत्रों के अनुसार, इस बैठक में भारत अपने आठ काबिल और तेजतर्रार अधिकारियों की टीम के माध्यम से पाकिस्तान की टेरर फंडिंग की पोल खोलने वाला है.

जानकारी के मुताबिक इस मीटिंग में भारत की ओर से आठ तेजतर्रार अफसरों की टीम शामिल होगी जो पाकिस्तान की टेरर फंडिंग का कच्चा चिट्ठा FATF के सामने रखेंगे.. इसमें भारत की ओर से नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी (NIA), प्रवर्तन निदेशालय (ED) ,इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (IT) फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU),  रॉ (R&AW) ,विदेश मंत्रालय के अधिकारी और रिवेन्यू डिपार्टमेंट से जुड़े हुए अधिकारी शामिल होंगे. भारत FATF में पाकिस्तान को पुलवामा हमले में पाकिस्तान की ओर से हुई टेरर फंडिंग को लेकर एक डॉजियर भी सौंपेगा.  

सूत्रों के अनुसार, भारत ने जो डॉजियर तैयार किया है, उसमें ऐसे इलेक्ट्रॉनिक सबुत हैं, जो FATF बैठक के दौरान बोलती पाक के तरफ़दारों की बोलती बंद कर देंगे. पुलवामा हमले के लिए कैसे पाकिस्तान की सरजमीं पर स्टेट एक्टर्स की नाक के तले साजिश रची गई, ये सब डॉजियर में पुख्ता प्रमाणों के साथ मौजूद होगा. बताया जा रहा है कि भारत FATF में जो सबूत रखने जा रहा है, वो पाक को पूरी दुनिया के सामने बेनकाब कर देंगा.

वहीं, पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) ने खुलेआम यह कहकर इमरान खान (Imran Khan) सरकार को झटका दे दिया है कि देश FATF द्वारा कालीसूची (FATF Black List) में डाले जाने के कगार पर है. इस्लामाबाद से रायटर की एक रिपोर्ट में शरीफ के हवाले से कहा गया, ‘जब हमने बताया कि हमारे मित्र देश हमें बाहरी मुद्दों पर हमारी भागीदारी के बारे में चेतावनी दे रहे हैं, जो कि सेना के इशारे पर किए जा रहे थे, तो हम पर हमला किया गया और इसे एक घोटाले में बदल दिया गया.’ वह रविवार को लंदन से एक वीडियो लिंक के माध्यम से पाकिस्तानी विपक्षी दलों के एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. शरीफ ने कहा, ‘अब पाकिस्तान को एफएटीएफ जैसे प्लेटफार्मो द्वारा तय किए गए लक्ष्यों को पूरा करने की कोशिश के शर्म से निपटना होगा.’ वह फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) का जिक्र कर रहे थे, जो मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनेंस का मुकाबला करने के लिए काम करने वाला ग्लोबल वाचडॉग है.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: