बिहार का बा! Dmch डूबल बा

नई दिल्ली. बिहार का सरकारी तंत्र कितना मजबूत है इसका जीता जागता उदाहरण आजकल सोशल मीडिया पर देखने को मिल जाता है. बिहार के युवा कभी रिजल्ट के लिए ट्वीटर पर आवाज उठाते हैं तो कभी नियुक्ति के लिए. बीते दिनों #Bihar_Needs_Teachers और #DECLARE_RESULT_BSSC_URDUTRANSLATOR ट्रेंड चलाया गया.

परेशान और दुखी अस्पताल स्टाफ के साथ कैसे होगा मरीजों का इलाज

शिक्षा के साथ साथ बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था कितनी अच्छी है इसका अंदाजा सोशल मीडिया पर शेयर की गई तस्वीरो और वीडियो से लगता है. आलम ये है कि तीन दिन बाद भी दरभंगा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में पानी घुसा जो तीन दिन बाद भी निकाला नहीं जा सका है. एक अस्तपाल जो तीन दिनों से पानी में डूबा हुआ है. यहां मरीजों का इलाज कैसे किया जा रहा है और डॉक्टर खुद कितनी परेशानी में ड्यूटी कर रहे है इसका अंदाजा लगाया जा सकता है.

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो

यास तूफान के कारण बारिश के पानी में डूबे अस्पताल की वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई थी. ट्वीटर पर राजद के दरभंगा हैंडल से अस्पताल भी वो तस्वीरें भी सामने आई जिससे ये साफ पता चलता है कि बिहार में सुशासन बाबू के राज में मरीज ठीक नहीं बल्कि अधिक बीमार होने ही जाता होगा.

हालांकि इसमें अस्पताल प्रशासन का नहीं बल्कि सरकार का दोष है जो तीन दिनों तक इस मामले पर सोती रही. इस वीडियो को रीट्वीट करते हुए रोहिणी आचार्या ने लिखा कि हॉस्पिटल से भरा पानी में दौड़ लगा रहा है कुत्ता. डबल इंजन की सरकार के नाकामी की आईना दिखा रहा हो जैसे.

कर्मियों को हुई परेशानी

अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि अस्पताल से कोविड डेडिकेटेड वॉर्ड तक जाने में काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. अस्पताल के कैंपस में कई जगह गड्ढे है जो इस समय पानी के कारण भर चुके है. ऐसे में डॉक्टरों को अपनी जान पर खेलकर कोविड वॉर्ड से नॉर्मल वॉर्ड में आना पड़ रहा है. यहां सबसे अधिक परेशानी तब आ रही है जब डॉक्टर रात में अंधेरे में पानी के बीत से निकल कर आते है. पानी ने डॉक्टरों की जान को भी आफत में डाल दिया है.

दो दिन की बारिश से अस्पताल में बाढ़

दो दिन हुई मूसलाधार बारिश ने डीएमसीएच की बदहाली की तस्वीर सामने ला दी. अस्पताल को देखकर लगता है कि अस्पताल में बाढ़ आ गई है. बात चाहे अस्पताल कैंपस की हो, वॉर्ड की या फिर गैलरी की. हर तरफ पानी ही पानी है. इस पानी ने पूरे अस्पताल की मुसीबत बढ़ा दी है. चाहे वो डॉक्टर हो, मरीज या उनके परिजन. सभी को आवाजाही के लिए इस पानी से होकर जाना पड़ रहा है.

बायोमेडिल वेस्ट पानी में बहा

अस्पताल में पानी इस हद तक जमा हो गया कि अस्पताल की दवाईयां पानी में बह गई. कई फोटो ऐसी भी आई जिसमें बायोमेडिकल वेस्ट जैसे सीरिंज आदि भी पानी में बहते दिखे. डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल में इधर उधर पानी में खुले सीरिंज तैर रहे है. अगर किसी मरीज या किसी डॉक्टर को ये चुभ गए तो इंफेक्शन होने का खतरा है. पानी भरने से अस्पताल बीमारी का अड्डा अधिक बन चुका है.

बड़े अस्पतालों में शुमार

बता दें कि डीएमसीएच बिहार के बड़े अस्पतालों में शुमार होता है. यहां दरभंगा समेत आसपास के आधा दर्जन से अधिक जिलों के मरीज इलाज करवाने के लिए पहुंचते है. कोरोना काल में अस्पताल में 100 से अधिक संक्रमित मरीजों का इलाज अस्पताल में चल रहा है.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: