प्रदर्शनकारियों ने रूट तोड़ा, ट्रैक्टर रैली बेकाबू; ITO पर हालात बेहद तनावपूर्ण, कई मेट्रो स्टेशन के गेट बंद

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान आईटीओ पहुंचकर दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने रखी बैरिकेडिंग को हटा दिया. प्रदर्शन कर रहे किसानों ने राजधानी दिल्ली के आईटीओ में एक डीटीसी बस को क्षतिग्रस्त भी कर दिया. आईटीओ पर दिल्ली पुलिस के एक कर्मी कुछ प्रदर्शनकारियों ने हमला बोला तो अन्य प्रदर्शनकारियों ने उसे बचाया. आईटीओ पर पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल किया. भारतीय किसान संघ (बीकेयू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत का कहना है कि रैली शांतिपूर्वक चल रही है और उनके पास प्रदर्शनकारियों द्वारा हिंसा करने की कोई खबर नहीं है. दूसरी तरफ नांगलोई में किसानों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए दिल्ली पुलिसकर्मी सड़कों पर बैठ गए हैं.

दिल्ली मेट्रो ने आईटीओ मेट्रो स्टेशन समेत कई स्टेशनों के गेट बंद करने का फैसला लिया है. दिल्ली मेट्रो ने ग्रीन लाइन के सभी स्टेशनों समेत, इंद्रप्रस्थ, समयपुर बादली, रोहिणी सेक्टर 18/19, हैदरपुर बादली मोड़, जहांगीर पुरी, आदर्श नगर, आजादपुर, मॉडल टाउन, जीटीबी नगर, विश्वविद्यालय, विधान सभा और सिविल लाइन्स के एंट्री और एग्जिट गेट बंद करने का फैसला किया है.

ट्रैक्टर रैली से पहले किसानों और पुलिस के बीच संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, मुबारक चौक, करनाल बाईपास और सिंघू बॉर्डर समेत कुछ स्थानों पर झड़प हो गई है. करनाल बाईपास पर कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने दिल्ली में प्रवेश के लिए बैरिकेडिंग तोड़ दी. दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर पांडव नगर के नजदीक प्रदर्शनकारी पुलिस बैरिकेडिंग हटाने की कोशिश कर रहे हैं. संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई. पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे. दरअसल, प्रदर्शनकारियों की तरफ से पुलिस की गाड़ी पर कब्जा जमाने के बाद झड़प शुरू हुई. इससे पहले, प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह सिंघू और टिकरी सीमा पर पुलिस बैरिकेड्स तोड़कर राजधाानी में मंगलवार सुबह ही प्रवेश कर गए. अधिकारियों के अनुसार, सुरक्षाकर्मियों ने किसानों को समझाने का प्रयास किया कि उनकी ट्रैक्टर परेड को मंजूदी दी जा चुकी है और राजपथ पर रिपब्लिक डे परेड पूरी होने के बाद वे दिल्ली में अपनी परेड निकाल सकते हैं. लेकिन किसानों के कुछ समूह ने उनकी बात नहीं मानी और आउटर रिंग रोड पर पुलिस बैरिकेड्स तोड़कर आगे बढ़ते गए.

संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले 41 किसान संगठन केंद्र की तरफ से पारित तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. वे दिल्ली की सीमाओं पर बीते करीब दो महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं. संयुक्त किसान मोर्चा के एक सदस्य का कहना है कि जिन्होंने बैरिकेड्स तोड़ा है, वे किसान मजदूर संघर्ष समिति से संबद्ध हैं.

रैली में शामिल किसानों पर फूलों की बारिश
ट्रैक्टर, मोटरबाइक, घोड़े और क्रेन के जरिए दिल्ली बॉर्डप पार करने वाले किसान ‘जय जवान, जय किसान’ का नारा लगा रहे हैं और ‘रंग दे बसंती’ गा रहे हैं. जिन जगहों से प्रदर्शनकारी गुजर रहे हैं, उधर से सड़कों के दोनों किनारों पर लोग किसानों पर फूलों की बारिश कर रहे हैं और ड्रम बजा रहे हैं. कुछ प्रदर्शनकारी ‘ऐसा देश है मेरा’ और ‘सारे जहां से अच्छा’ जैसे देशभक्ति गीतों पर नृत्य भी कर रहे हैं. घोड़े पर सवार एक प्रदर्शनकारी गगन सिंह ने कहा कि लोग खेतों में हल जोतने वाले को ही किसान मानते हैं जबकि किसान मोटरबाइक और घोड़े भी राइड कर सकते हैं. गगन सिंह ने कहा कि आज की ऐतिहासिक रैली में सब कुछ लोगों के सामने है. 40 वर्ष से अधिक की उम्र की एक महिला परमजीत बीबी इस रैली में एक ट्रैक्टर चला रही हैं. उनका कहना है कि महिलाएं सिर्फ रसोई ही नहीं संभाल रही हैं, वे खेतों में आदमियों की मदद भी कर रही हैं और रैली में ट्रैक्टर भी चला रही हैं. सिंघू बॉर्डर से हरियाणा के यमुना नगर से एक किसान आदित्य पजेत्ता रैली में अपने कंधों पर 15 किग्रा का हल लेकर चल रहे हैं. उनका कहना है कि वे इस हल को बचाने के लिए लड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि वे इस हल को वहां तक लेकर जाएंगे, जहां तक रैली निकाली जाएगी.

गणतंत्र दिवस परेड के बाद निकलनी है ट्रैक्टर रैली

दिल्ली बॉर्डर पर पिछले 60 से भी ज्यादा दिनों से तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान मंगलवार को राजधानी में ट्रैक्टर रैली निकालने वाले हैं. इसे किसान गणतंत्र परेड (Kisan Gantantra Parade) का नाम दिया गया है.

ट्रैक्टर रैली में पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान आदि राज्यों से बड़ी संख्या में किसान अपने-अपने ट्रैक्टरों के साथ शामिल हो रहे हैं. ट्रैक्टर रैली में 2 लाख से भी ज्यादा ट्रैक्टर रहने का अनुमान है.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

One thought on “प्रदर्शनकारियों ने रूट तोड़ा, ट्रैक्टर रैली बेकाबू; ITO पर हालात बेहद तनावपूर्ण, कई मेट्रो स्टेशन के गेट बंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: