अब सत्याग्रह की राह पर उतरे देश के डॉक्टर

नई दिल्ली. भारत भर में स्वास्थ्य व्यवस्थाएं चर्मरा चुकी है. मरीजों की बिगड़ी हालत के लिए जिस तरह डॉक्टरों को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके साथ कई हिंसा की घटनाएं भी सामने आई. ऐसी कई घटनाओं व अन्य मुद्दों को लेकर अब डॉक्टर फिर से एकजुट होंगे.

शर्मनाक! मुख्यमंत्री से मिलने आए डॉक्टरों को थाने ले गई पुलिस, देखें वीडियो

आगामी एक जुलाई यानी डॉक्टर्स डे के मौके पर देश भर के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन, रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन और अन्य डॉक्टर एसोसिएशन मिलकर स्वास्थ्य सत्याग्रह करेंगी. इस स्वास्थ्य के जरिए डॉक्टर अपनी मांगों को आगे रखेंगे. इस दौरान डॉक्टर तीन घंटे अतिरिक्त ड्यूटी देंगे. इसके साथ ही दिन भर उपवास यानी व्रत भी करेंगे.

अबतक 1300 से अधिक डॉक्टरों ने गंवाई जान

इस संबंध में फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन के जनरल सेक्रेट्री डॉ. सुवर्णकार दत्ता ने बताया कि हर साल डॉक्टर्स डे मनाया जाता है. इस बार डॉक्टर खुद स्वास्थ्य सत्याग्रह करने उतरेंगे. इस स्वास्थ्य सत्याग्रह के जरिए हमारी मांग है कि देश में स्वास्थ्य क्षेत्र को मिलने वाली राशि में बढ़ोतरी होनी चाहिए. भारत में स्वास्थ्य पर बुहत कम राशि खर्च की जाती है. ऐसे में अगर स्वास्थ्य सविधाओं को बढ़ाना है तो जरूरी है कि हेल्थकेयर पर खर्च होने वाली राशि को बढ़ाया जाए.

डॉक्टरों पर हो रहे हमलों पर युवा डॉक्टरों ने कही ये बात

इसके अलावा डॉक्टरों की मांग है कि इंडियन मेडिकल सर्विस का जल्द से जल्द निर्माण किया जाए. इसके होने से भारत में स्वास्थ्य सेवाओ को नई दिशा मिल सकेगी. देश भर के डॉक्टर इंडियन मेडिकल सर्विस का निर्माण करने की मांग लंबे समय से कर रहे है.

न जनता साथ न सरकार, डॉक्टर अकेले हो रहे परेशान

स्वास्थ्य कर्मचारियों पर बीते कुछ दिनों में हमले किए जाने के मामले काफी बढ़े है. ऐसे में हमारी मांग है कि सेंट्रल प्रोटेक्शन एक्ट के तहत अस्पताल और वर्किंग प्लेस पर स्वास्थ्य कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित की किया जाए. ऐसे मामलों में दोषी को तत्काल पकड़ कर गैर जमानती अपराध करने के जुर्म में कार्रवाई की जाए.

इन संस्थाओं का मिल रहा साथ

स्वास्थ्य सत्याग्रह में फाईमा के साथ रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन एम्स भुवनेश्वर, रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन एम्स भोपाल, रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन जेआईपीएमईआर (पुड्डुचेरी), एआरडी पीजीआईएमईआर (चंडीगढ़), चीजेयूडीए (तेलंगाना), एडीडी (एसोसिएशन ऑफ डीएनबी डॉक्टर्स), केएआरडी (कर्नाटक), एमएआरडी (महाराष्ट्र), आरडीए यूपी, आईएमए एमएसएन (मेडिकल स्टूडेंट्स नेटवर्क), एफएमएसए (फेडरेशन ऑफ मेडिकल स्टूडेंट्स एसोसिएशन), जीएआईएमएस (ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ इंडियन मेडिकल स्टूडेंट्स), एपीजेयूडीए (आंध्र प्रदेश), एमपीजेयूडीए (मध्य प्रदेश), एजेईएसआईडीए (ईएसआई), एआईडीए, डीएके (कश्मीर), आरडीए बिहार, डीएनआरडीए (तमिलनाडू), यूआरडीपी (पंजाब), आरडीए राजस्थान, आरडीए गुजरात, जेडीए इंदौर, सिविल अस्पताल डॉक्टर एसोसिएशन (हरियाणा), जीडीए जबलपुर आदि शामिल है.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

3 thoughts on “अब सत्याग्रह की राह पर उतरे देश के डॉक्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: