असम में डॉक्टर को भीड़ ने मारा, डॉक्टरों में नाराजगी

नई दिल्ली. असम के गुवाहाटी से 140 किलोमीटर दूर स्थित होजई में एक डॉक्टर के साथ मारपीट का मामला सामने आया है. मंगलवार को एक मरीज की मौत के बाद उसके परिजनों ने अस्पताल पर हमला बोला. मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हुई थी. इसके बाद परिजनों ने मेटल की छड़ी और ईटों से डॉक्टर पर हमला किया. स्थानीय निवासियों ने भी डॉक्टर के साथ मारपीट की. डॉक्टर अब अस्पताल में इलाज करा रहे है.

रामदेव के खिलाफ एक जून को डॉक्टर उठाएंगे ये बड़ा कदम

जानकारी के मुताबिक मरीज की मौत के बाद परिजन उग्र हो गए. उन्होंने डॉक्टर सोज कुमार की पिटाई की. वहीं मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो डॉक्टर का कहना है कि जबतक वो मरीज को देखने पहुंचे उसकी मौत हो चुकी थी.

अबतक 1300 से अधिक डॉक्टरों ने गंवाई जान

वहीं डॉक्टर के साथ मार पिटाई के मामले पर अब इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने भी आपत्ति दर्ज कराई है. आईएमए डॉक्टर के साथ हुई घटना से नाराज है. इस मामले के बाद आईएमए ने गृह मंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखकर डॉक्टरों की सुरक्षा की मांग की है. गौरतलब है कि ऑन ड्यूटी डॉक्टरों के साथ बदसलूकी का ये कोई पहला मामला नहीं है.

बाबा रामदेव के खिलाफ कल मोर्चा खोलेंगे देशभर के डॉक्टर

आईएमए का कहना है कि कोरोना संक्रमण काल में डॉक्टर्स की ओर से हर मुमकिन कोशिश की जा रही है. डॉक्टर किसी मरीज का नुकसान नहीं होने देना चाहते. मरीजों को बेहतर इलाज देना ही डॉक्टरों की प्राथमिकता है.

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

इस हादसे का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है. इसमें दिख रहा है कि एक जूनियर डॉक्टर को लात-घूसों और चप्पालों से मार रहे हैं. डॉक्टर को मार रहे लोगों के हाथ में बर्तन, झाड़ू भी दिख रहा है. इस मामले पर हिमंत विस्वा सरमा ने ट्वीट भी किया है. उन्होंने इस मामले की कड़ी निंदा भी की है. उन्होंने ट्वीट कर बताया कि इस मामले पर अबतक 24 लोगों की गिरफ्तारी हो गई है.

फोर्डा ने की निंदा

फोर्डा ने लिखा कि इस हादसे में डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ को भी मारा गया है. इस हादसे के बाद डॉक्टर को नागाओ सिविल अस्तपाल में शिफ्ट किया गया. इस तरह के हादसे कोरोना संक्रमण काल में काफी देखने को मिल रहे है. अस्पताल में डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ के साथ ऐसे हादसे बार बार देखने को मिल रहे है. ऐसे में हमारी अपील है कि इस मामले पर संज्ञान लेते हुए महामारी एक्टर 1897 के तहत कार्रवाई की जाए ताकि ऐसे हादसे दोबारा न हो.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: