एक्सपर्ट से जानें कोरोना, डेंगू, मलेरिया में कैसे करें अंतर

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण के साथ अब एक नई परेशानी लोगों के सामने आ सकती है. दरअसल मौसम में हुए बदलाव और बारिश होने के बाद इन दिनों एक नई परेशानी खड़ी हो गई है. अब डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के मामलों में भी सामने आने लगेंगे.

इन टिप्स से हंसते-हंसते हरा देंगे कोरोना

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए एक तरफ केंद्र और राज्य सरकारें पूरी कोशिशों में जुटी हुई हैं. वहीं दूसरी ओर कोरोना के साथ अब मच्छर जनित बीमारियों का खतरा भी बढ़ने लगा है. बारिश के बाद अब इसके मामलों में इजाफा देखने को मिल सकता है.

कोरोना वायरस से कुंवारे लोगों पर मौत का अधिक खतरा

वहीं डॉक्टरों का कहना है कि एक तरफ जब कोरोना संक्रमण पर देशभर के डॉक्टरों का ध्यान है. उसी बीच डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया के मामले सामने आने से परेशानी अधिक बढ़ सकती है. इस बीमारी में जरा भी लापरवाही बरतना अधिक परेशानी खड़ी कर सकती है.

कोरोना वायरस के नए लक्षण आए सामने, नजरअंदाज करने की न करें गलती

गौरतलब है कि बारिश का मौसम आने वाला है. वहीं दो दिन से हो रही बारिश के कारण दिल्ली व आस पास के राज्यों में मच्छरों को पनपने का भरपूर मौका मिल गया है. ऐसे ही हालातों में डेंगू के मच्छर पनपते हैं. इसी दौरान डेंगू से बचाव के उपाय करना जरूरी होता है. ऐसे में ध्यान देने की जरुरत है कि घर से आसपास पानी इकट्ठा न होने दें.

लक्षणों पर देना होगा ध्यान

डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना, मलेरिया, डेंगू जैसी बीमारियों में बुखार आना एक आम लक्षण है. बुखार आने पर मरीज में घबराहट भी हो सकती है. इस तरह बुखार में फर्क करना मुश्किल हो जाता है. मगर कुछ बातों का ध्यान रखते हुए लक्षणों को पहचाना जा सकता है. ऐसे में जागरुक रहना और एहतियात बरतना जरूरी है. इस बात का भी ख्याल रखना है कि घरेलू उपचार से ठीक होने की कोशिश न करें.

मास्क धोते समय रखें इन बातों का खास ख्याल

Dr Rakesh Bagdi

इस संबंध में फाइमा ऐसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. राकेश बागड़ी का कहना है कि कोरोना संक्रमण के साथ ही डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया और टायफाइड जैसी बीमारियों का भी मौसम आ रहा है. ऐसे में इन्हें समय पर पहचानने की जरुरत है. लक्षणों पर गौर करते हुए इसे कोरोना समझना भी सही नहीं है.

तीस की उम्र कर चुके हैं पार, तो यह मेडिकल टेस्ट कराना ना भूलें

डॉक्टर के मुताबिक कोरोना और अन्य बीमारियों में बुखार सबसे कॉमन है. इसके अलावा खांसी, जुकाम, गले में खराश, दस्त जैसे लक्षण भी देखने को मिलते हैं. मगर इन लक्षणों को नजरअंदाज करना सही नहीं है. ऐसे लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह ली जानी चाहिए. इसके अलावा डॉक्टर के कहे मुताबिक ही टेस्ट करवाने के बाद दवाईयों का सेवन शुरु करना चाहिए.

खुद बरतें ऐहतियात

चाहे कोरोना वायरस हो या फिर मच्छर जनित बीमारियां, इन सभी से बचने का एक आसान उपाय है ऐहतियात. इसे बरतते हुए अपने आस पास साफ सफाई का ध्यान रखें. बार बार हाथ साबुन से धोएं. घर, छत व आसपास पानी इकट्ठा न होने दें. मास्क का इस्तेमाल जरूर करें.

ऐसे हैं अलग अलग लक्षण

कोरोना वायरस

कोरोना संक्रमण का खतरा उन लोगों को अधिक है जो घर से बाहर निकल रहे हैं. या जिनके घर या पड़ोस में कोई कोरोना संक्रमित है. कोरोना में सिर्फ मरीज की नहीं बल्कि परिवार, मिलने जुलने वालों की हिस्ट्री भी देखनी पड़ती है. कोरोना एक व्यक्ति से दूसरे में फैल सकता है.

  • बुखार, सूखी खांसी
  • सांस लेने में तकलीफ
  • थकान
  • नाक बहना
  • गले में खराश
  • डायरिया
  • स्वाद व सूंघने की क्षमता खत्म होना

डेंगू

वहीं डेंगू हवा से नहीं फैलता. ये संक्रमित मरीज को मच्छर से काटे जाने के बाद दूसरे मरीज को काटने से फैलती है. ये एक एरिया में पनपता है. समय पर ध्यान दिया जाए तो इसे रोकने में मदद मिलती है.

  • अचानक तेज बुखार
  • सिर में आगे की ओर तेज दर्द
  • आंखों के पीछे दर्द और आंखों के हिलने से दर्द
  • मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द
  • स्वाद का पता न चलना और भूख न लगना
  • छाती और ऊपरी अंगों पर खसरे जैसे दानें
  • चक्कर आना, प्लेटलेट कम होना
  • जी घबराना, उल्टी आना
  • एबडोमेन पेन

मलेरिया

वहीं मलेरिया भी हवा से नहीं फैलता है. ये संक्रमित मरीज को मच्छर से काटे जाने के बाद दूसरे मरीज को काटने से फैलती है. ये एक एरिया में पनपता है. समय पर ध्यान दिया जाए तो इसे रोकने में मदद मिलती है.

  • अचानक सर्दी लगना
  • कंपकपीं के साथ बुखार आना
  • अचानक गर्मी के साथ बुखार आना
  • पसीना आना
  • कमजोरी महसूस होना

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: