कोरोना से जान गंवाने वाले शिक्षकों के आश्रितों के लिए दिल्ली सरकार से लगाई गुहार

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण काल में इन दिनों कोविड वॉरियर्स की बहुत चर्चा हो रही है. कोरोना वॉरियर्स के तौर पर मुख्यरुप से मेडिकल स्टाफ को ही मान्यता दी जा रही है. मगर सच्चाई ये है कि कोरोना काल में डॉक्टर्स के अलावा शिक्षकों, पुलिसकर्मी आदि ने भी अपनी सेवाएं बिना रुकावट जनता को दी है. इसी बीच देखने में आया है कि कोरोना संक्रमण में ड्यूटी करने के दौरान कई शिक्षक भी कोरोना वायरस से संक्रमित हुए. कई शिक्षक कोरोना से अपनी जान भी गंवा चुके हैं.

दिल्ली सरकार को लिखा पत्र

कोरोना संक्रमण काल में दिल्ली सरकार के स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों ने कई तरह की ड्यूटी की है. इसी बीच कई शिक्षक कोरोना संक्रमित हो जान से हाथ धो चुके हैं. ऐसे में उनके परिवार वालों के सामने रोजी रोटी का संकट भा पैदा हो गया है. ऐसे संकट के बीच अब शिक्षक न्याय मंच ने दिल्ली सरकार को पत्र लिखकर गुहार लगाई है कि कोरोना संक्रमण से जान गंवाने वाले शिक्षकों के आश्रितों को भी नौकरी मुहैया करवाई जाए.

इस मामले पर शिक्षक न्याय मंच के अध्यक्ष डॉ. प्रदीप डागर ने कहा कि शिक्षकों की अलग अलग जगह ड्यूटी लगाई जा रही है. मगर उनके काम को उतनी अहमियत सरकार नहीं दे रही है. शिक्षकों की ड्यूटी अलग अलग कामों के लिए लग रही है. इस दौरान कई शिक्षक संक्रमित हुए है. उन शिक्षकों की जान अब वापस नहीं आ सकती. मगर उनके परिवार वालों के लिए एक आश्रय का साधन दिया जा सकता है.

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण में जान गंवाने वाले कई शिक्षक थे जहां कमाने वाले वो अकेले थे. कई घरों में अब जीवन यापन के लिए भी सवाल खड़े हो गए हैं. ऐसे में दिल्ली सरकार में उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को पत्र लिखकर मांग की है कि शिक्षकों के आश्रितों को जल्द से जल्द नौकरी की सुविधा दी जाए. उन्हें शिक्षा के आधार पर नौकरी मिले ताकि किसी परिवार में सदस्य खोने के बाद लालन पालन के लिए किसी तरह का दुख न हो.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: