कांगो में फटा ज्वालामुखी, 15 लोगों की मौत और 500 से ज्यादा मकान नष्ट

कांगो में ज्वालामुखी फटा है. इसके बाद ज्वालामुखी का लावा बहकर ईस्ट कांगो के गांवों में आ गया. बताया जा रहा है कि इसके कारण यहां 500 से ज्यादा मकान नष्ट हो गए. इतना ही नहीं, इस घटना में कम से कम 15 लोगों की मौत भी हो गई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अधिकारियों तथा प्रत्यक्षदर्शियों ने यह जानकारी दी है.

PC : Social media

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने बताया कि कांगो के गोमा शहर के नजदीक स्थित ज्वालामुखी माउंट नीरागोंगो शनिवार को फट गया था. इसके कारण करीब पांच हजार लोग गोमा शहर छोड़कर चले गए जबकि अन्य 25,000 ने नॉर्थ-वेस्ट में साके शहर में शरण ली. इस प्राकृतिक आपदा के बाद से 170 से अधिक बच्चे लापता हैं.

कोरोना संकट में एड्स के इलाज में पिछड़ी दुनिया, WHO ने कहा 2030 तक खत्म करना संभव नहीं

यूनिसेफ के अधिकारियों का कहना है कि वे ऐसे बच्चों की मदद के लिए शिविर लगा रहे हैं जो अकेले हैं, जिनके साथ कोई वयस्क नहीं है. बता दें कि यह ज्वालामुखी पिछली बार साल 2002 में फटा था तब भी यहां भारी तबाही मची थी.

उस समय भी सैकड़ों लोगों की मौत हो गई थी तथा एक लाख से अधिक लोग बेघर हो गए थे. अधिकारियों ने बताया कि इस बीच गोमा से निकलने की कोशिश के दौरान ट्रकों के बीच हुई टक्कर में कम से कम पांच अन्य लोग मारे गए.

The Depth

TheDepth is India's own unbiased digital news website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: