कोविड पॉजिटिव गर्भवती महिला को थी बेड की जरुरत, इंस्टाग्राम के जरिए मिली मदद

नई दिल्ली. साहस, हिम्मत, बहादुरी कुछ ऐसे शब्द हैं जिनको सुनकर व्यक्ति में जोश जाग जाता है. जिंदगी में साहस होना बहुत जरूरी है. साहस और हिम्मत के बल पर व्यक्ति नामुमकिन कार्य में भी सफलता पा लेता है. जैसे इन दिनों कोरोना संक्रमण के दौर में बेड की और ऑक्सीजन की किल्लत ने लोगों में नकारात्मक विचार भर दिए है. वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे लोग भी है जो समस्या का हल मिलने तक हार नहीं मानते.

ऐसा ही कुछ देखने को मिला दिल्ली निवासी राजीव के मामले में. राजीव को अपनी कोविड पॉजिटिव और गर्भवती पत्नी दीपिका के लिए तत्काल रुप से बेड की आवश्यकता थी. उनके रिश्तेदार अवनीश ने सोशल मीडिया पर इस जरुरत को लोगों के साथ साझा किया. इसी बीच उनका संपर्क हुआ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की सदस्य महामेधा नागर से. इंस्टाग्राम पर महामेधा को अवनीश का मैसेज रिसीव हुआ. उसमें दिल्ली में एक गर्भवती और कोविड संक्रमित महिला को अस्पताल में बेड दिलवाए जाने की मदद मांगी गई थी.

मामले की गंभीरता को समझते हुए बिना किसी देर के महामेधा ने राजीव से फोन पर संपर्क किया. उन्होंने उनकी पत्नी की जानकारी मांगी. इस बातचीत में उन्हें मालूम हुआ कि व्यक्ति को कई कोशिशों के बाद भी कोई बेड नहीं मिल रहा है. The Depth News से बातचीत में महामेधा ने बताया कि उन्हें हताश और नाउम्मीद देखकर तय किया की इनकी मदद करने की पूरी कोशिश की जाएगी ताकि एक मां और बच्चे को जिंदगी दी जा सके.

इसके बाद उन्होंने मधुकर रेनबो चिल्ड्रन अस्पताल में बेड के लिए बात की. साथ ही ये भी पता किया कि वहां इलाज के लिए ढाई लाख रुपयों की जरुरत थी. महिला के पति ने ढाई लाख रुपये ना दे पाने की मजबूरी जाहिर की. हालांकि पैसों का इंतजाम करने की जिम्मेदारी भी नागर ने ही उठाई और उन्हें एडमिट करवाने के लिए कहां. मगर इस दौरान अस्पताल में बेड फुल हो गए.

इसके बाद फिर से बेड दिलवाने की कोशिश की गई. कई दोस्तों और साथियों को किए गए फोन कॉल और इंतजार के बाद महिला को डीडीयू अस्पताल में देर रात बेड मिल सका. राहत की बात है कि इतनी परेशानियां झेलने के बाद महिला ने एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया. इस घटना के बाद हमने बात की महिला के पति राजीव से. उन्होंने मदद का हाथ बढ़ाने वालों का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि काफी मश्कक्त के बाद रात डेढ़ बजे अस्पताल में बेड मिल सका. अगर बेड न मिलता तो पता नहीं स्थिति कैसी होती.

ट्वीट कर जाहिर की खुशी

अस्पताल में एडमिट होने के बाद दीपिका ने एक बेटे को जन्म दिया. उनके पति ने बताया कि अभी बच्चा नर्सरी में है. मगर राहत की बात है कि मां और बच्चा दोनों अस्पताल में डॉक्टरों की निगरानी में है. वहीं महामेधा ने ट्वीट कर बच्चे के जन्म की खुशी जाहिर की. उन्होंने लिखा कि ये उनके जीवन का सबसे खुशी का दिन है. मां और बच्चा दोनों को दुनिया की सभी खुशियां मिले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: